Wednesday, April 18, 2012

२६/११ के शहीदों की याद आयी/के.सी.वर्मा

आज फिर याद जहन में २६/११ का मंजर आया ,
करने छलनी सीना सरहद पार से खंजर आया ।
बीती थी इक सुहानी रात नव प्रभात फूटा था ,
मुंबई की उस सुबह को वहसी- दरिंदों ने लूटा था ।
बे-गुनाह निहत्थे लोगों पर पिशाचो ने वार किया ,
हेमंत,सलास्कर ,आप्टे जैसे सपूतों को मार दिया ।
लहू उबल जाता है ,दिल भी भर आता है ?….
इतने बड़े देश में कोई कैसे ये कर जाता है ।
कितने दिनों तक प्रेम निमन्त्रण इनको बांटे जायेंगे ,
कब तक ?ये हत्यारे हिंदुस्तान की बिरयानी खायेंगे ॥?
सदा न्याय मिले सबको, कोई कब क्या कहता है ,
इस दरिन्दे[कसाब} की खातिर क्या कोई सबूत रहता है ।
वक्त आ गया है इन दुष्टों की जड़ को खत्म करो ॥!
बन भश्मासुर इनके शिविरों को बमों से भस्म करो ।
तब तक ये कुत्ते की ”पाक -पूंछ ”नही कभी सीधी होगी ,
जब तक नही ”ब्रह्मोस ”की जद में पूरी पाक परिधि होगी ।
”कमलेश ” नमन उन शहीदों को जो देश पर कुर्बान गए ,
अब भी जागो देश वासियों यह करते वो आह्वान गए ………!!

No comments:

Post a Comment