Saturday, May 26, 2012

रचना - क्या यह लोकतंत्र है !! लेखक -जिग्नेश पंडया

रचना - क्या यह लोकतंत्र है !! BY:लेखक -जिग्नेश पंडया

आमआदमी बेहाल सरकार माला-माल है ...क्या यह लोकतंत्र है !!
अन्धोकी सरकार बनीहै अंधा उसका राजा...क्या यह लोकतंत्र है !!

आमआदमी सोच रहा है "क्या करेगे हम" ....क्या यह लोकतंत्र है !!
हमारे द्वारा बनी सरकार हमें आंखे दिखाए ...क्या यह लोकतंत्र है !!

आमआदमी परेसानहै मोघवारी,भ्रष्टाचारसे..क्या यह लोकतंत्र है !!
जबभी आई मोघवारी लायी यह यु.पी.ऐ सरकार..क्या यह लोकतंत्र है !!

आमआदमी ही क्यों वोट देते इन देशद्रोही-गद्दारों को..क्या यह लोकतंत्र है !!
अफजल-कसाब इनके जमाई नाम ना लेना उनका...क्या यह लोकतंत्र है !!

--जय हिंद,भारत माता की जय
--जिग्नेश पंडया-उप-प्रमुख,भारतीय जनता युवा मोरचो-बावला तालुका

No comments:

Post a Comment