Monday, May 7, 2012

सच्चाई यह इंदिरा गाँधी परिवारकी:--

एक गाँव का लड़का अपने पिताजी से पूछता है की काकाजी, क्या राहुल गाँधी राष्ट्रपिता महात्मा गांधीजी के पोते है,???

उसके पिताजी ने जोड़ना शुरू किया तो पाया की इस गाँधी परिवार की शुरुआत कहा से हुई है, उसका दिमाग चकरा गया फिर बेटे का दिल रखने लिए उसने कह दिया, हा, राहुलजी गाँधी बाबा के परपोते है,

परन्तु उसका खुद दिल इस बोझ से दब गया की वह स्वयं अपने बेटे को बिना जानी जानकारी दे रहा है. जब बच्चा स्कूल चला गया तो वह गाव के हेडमास्टर जी के पास गया जो स्कूल जाने को तैयार थे, हेडमास्टर जी किसान का प्रश्न जानकर हैरान रह गए , सोचे थे यह हमसे पैसा माँगने आया होगा, फिर उन्होंने किसान को गाँधी परिवार की पूरी सच्चाई बताई तो किसान को अपनी अज्ञानता पर बड़ा क्रोध आया की उसे यह सब क्यों पता नहीं है,

1-राहुल का असली नाम है रौल विंसी/विन्ची ...

2-यह हिन्दू नहीं है, यह एक रोमन कथोलिक इसाई है,

3-इनकी माँ का नाम है एंटोनिया माईनो (Antonia Maino ), सोनिया गाँधी नाम बाद में भारतीयों के लिए रखा गया है, जिससे लोग जाने की यह गाँधी खानदान की है.

4-राहुल के पिता राजीव गाँधी पहले मुस्लिम थे, परन्तु एंटोनिया माईनो से शादी करने के तुरंत पहले यह इसाई बन गए.

5-राहुल जी के दादाजी का नाम था- फ़िरोज़ खान और फ़िरोज़ खान के पिताजी का नाम था नवाब खान जो एक किराना दुकान चलाते थे.

6-राहुल की दादी इंदिरा जी की शादी फ़िरोज़ खान के साथ हुई थी और शादी पहले वह मुस्लमान बन गयी थी.

7-राजीव जी के पिताजी का नाम फ़िरोज़ खान था और उनके दादाजी का नाम नवाब खान था.नवाब खान की शादी एक पारसी औरत से हुई थी जो शादी से पहले मुस्लमान बन गयी थी. राजीव गाँधी स्वयं शादी से पहले मुस्लिम से इससे बने थे.

8-इंदिरा जी ने जब फिरोज खान जी से शादी की थी तो सबको मालूम न पड़े की वह एक मुसलमान है, अपने नाम के आगे गाँधी शब्द जोड़ दिया जिससे लोग इस बारे में सोचे ही नहीं, इसी के साथ फ़िरोज़ ने भी अपने नाम के आगे गाँधी जोड़ दिया, यही से इस मुस्लिम परिवार के नाम में गाँधी लगाने लगा है. नेहरू जी तो राजीव के नाना थे जो ननिहाल की खानदान को बताता है, राजीव तक यह परिवार मुस्लिम था परन्तु एंटोनिया माईनो के बाद ये सब रोमन कैथोलिक इसाई है.

9-प्रियंका जी का असली नाम बियांका (बियंका) है और उनकी शादी एक इसाई राबर्ट बढेरा से हुई है. राबर्ट बढेरा की जाँच भारत के हवाई अड्डे पर नहीं की जाती है.

इस बात को जब किसान ने अपने बेटे को बताया बेटे ने बोला की अब मुझे आप पता करके बताइए की जवाहर लाल जी के दादा जी कौन थे इस समय नहीं फुर्सत में पता करके बताइए, मै कल पूछूँगा.
अब वह किसान किसी दिन आपको मिल जायेगा और नेहरू खानदान की जानकारी मागेगा, , इसलिए उसे बताने से पहले स्वयं सच्चाई जानिए और पता लग जाये तो मुझे भी मेल कर देना, किसान मुझसे भी तो मिल सकता है....... जरुर मेल करियेगा ....

No comments:

Post a Comment