Saturday, June 16, 2012

भर्ष्टाचार और महगाई .!!!

भर्ष्टाचार और महगाई ...जहा देखो वहा यही आग है!
यह आग बुजानेकी हम और आप बाते बहोत करते है!!
पर ढोस कदम उढ़ाने से हम पीछे कदम क्यों हटाते है!
क्यों हम अपने आपको आजाद हिंन्दके नागरिक कहते है!!
(C)जिग्नेश पंडया:उप-प्रमुख,भारतीय जनता युवा मोरचो-बावला तालुका 

No comments:

Post a Comment