Thursday, August 30, 2012

रचना-१ >>हिंदुस्तानमें उठी ललकार....जिग्नेश पंडया(देशप्रेमी)


हिंदुस्तानमें उठी ललकार है,आज जाग उठा नोजवान है,
युवा रुकेना अबकी बार सोचले ऐ दुश्मन तलवार,
नहीं रुकेगी अब युवा तलवार छोड़ेगे ना दुश्मनको आज,
लहु बहेगा अबकी बार,दुश्मन जाये अब देश निकाल.
-©रचना:जिग्नेश पंडया(देशप्रेमी)

No comments:

Post a Comment